Saturday, June 20, 2015

अंकशास्त्र की उपयोगिता

© महावीर सांगलीकर 
09145318228, 08149703595

अंकशास्त्र की सहायता से हम व्यक्ति के गुण और दोषों का आकलन कर सकते हैं. उसके अनुसार उस व्यक्ति का मार्गदर्शन किया जा सकता है. हम जान सकते हैं कि उस व्यक्ति के लिये कौन सी शिक्षा, कौन से रोजगार, कौन सा व्यवसाय लाभदायक हो सकता है और किन क्षेत्रों में वह व्यक्ति जादा प्रगति कर सकता है.

किसी भी व्यक्ती के उपर केवल उसीके अंको का असर नही होता, बल्की उसके सानिध्य में दीर्घ काल तक रहनेवाले व्यक्तियों के अंको का भी गहरा प्रभाव पड सकता है. इसी कारण व्यावसायिक भागीदार का चयन करते समय भी अंकशास्त्र का उपयोग किया जाता है. वधू या वर का चयन करते समय भी अंकशास्त्र उपयोगी सिद्ध होता है.

अंकशास्त्र की सहायता से हम बता सकते हैं कि कौनसा साल, कौनसे महिने और कौन से दिन संबंधित व्यक्ति के लिये लाभदायक हो सकते हैं.

कुछ लोग अंकशास्त्र का संबध ज्योतिषशास्त्र से जोडते है, जो सही नही है. अंकशास्त्र का संबंध ग्रहगोलो से न होकर अंको से है. अंकशास्त्र और ज्योतिषशास्त्र दो अलग अलग शास्त्र है. ज्योतिषशास्त्र में व्यक्ति के जन्म का  सही समय और स्थान इन दो बातों की जानकारी का होना एक अति आवश्यक बात है. अंकशास्त्र में केवल व्यक्ति का जन्म दिन और नाम इनin दो बातों का विचार किया जाता है.  अगर किसी व्यक्ति का सही जन्मदिन मालूम न हो, तो उस व्यक्ति के स्कूल में दर्ज जन्मदिन का भी कुछ हद तक विचार किया जा सकता है.

विख्यात ज्योतिषी किरो ने कहा था कि ज्योतिषशास्त्र और हस्तसामुद्रिक से अंकशास्त्र अधिक उपयोगी साबित होता है. 

No comments:

Post a Comment